दिल्ली के आज़ादपुर झुग्गी में रहने वाले निसार अहमद के घर इन दिनों बधाइयों का तांता लगा है.

वो अंडर-16 नेशनल लेवल पर 100 और 200 मीटर दौड़ के चैम्पियन बने हैं. जल्द ही जमैका जाकर यूसेन बोल्ट के क्लब में ट्रेनिंग लेंगे और उन्हें ये मौका एक टैलेंट हंट के ज़रिए मिला है.

उनके पिता रिक्शा चलाते हैं और मां घरों में काम करती है. दोनों ही बेहद परेशानियों का सामना कर निसार का सपना पूरा करने में लगे हैं.

निसार प्रतियोगिता में जीती गई राशि से किसी तरह अपनी डाइट का बंदोबस्त कर रहे हैं.

वो चाहते हैं कि सरकार और खेल मंत्रालय उनके और उनके जैसे गरीब एथलीटों की मदद के लिए आगे आए जिससे वो देश का नाम रोशन कर सकें

दिल्ली की झुग्गी बस्ती से निकला 'सुपरहीरो- निसार अहमद

निसार ने कुछ महीनों पहले ही 100 मीटर की रेस 10.85 सेकेंड और 200 मीटर की रेस 21.73 सेकेंड में पूरी कर नेशनल रिकॉर्ड तोड़ा था.

15 साल के निसार करीब चार साल से दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम में सुनिता राय की कोचिंग में ट्रेनिंग ले रहे हैं.

12 साल की उम्र में उनकी प्रतिभा को उनके स्कूल टीचर ने पहचाना और उन्हें छत्रसाल स्टेडियम भेज दिया.

निसार की माली हालत बेहद ख़राब है. उनका घर आज़ादपुर झुग्गी में रेलवे पटरी के किनारे है. पास से ट्रेन गुज़रती है तो उनके घर की दीवारें तक हिल जाती हैं.

यह भी पढ़ें