इस बार पंजाब में बासमती की खेती बहुत कम क्षेत्र में हुई है । तो मांग ज्यादा होने के कारण और पूर्ति कम होने के कारण इस बार बासमती के बढ़ने के अनुमान है ।

लेकिन इस बार एक समस्या यह है के भारत के बासमती चावल निर्यात को प्रतिस्पर्धा में पाकिस्तान से नुकसान झेलना पड़ सकता है क्योंकि ईरान ने अपना इंपोर्ट प्राइस 850 डॉलर प्रति टन फिक्स कर दिया है, जो ज्यादा ढुलाई लागत के कारण इंडियन सप्लायर्स के लिए व्यावहारिक नहीं है।

ईरान बासमती के इंपोर्ट के लिए दोबारा परमिट जारी करने वाला है, लेकिन भारतीय व्यापारी और अधिकारी इसको लेकर चिंतित हैं। गौरतलब है कि ईरान भारत के बासमती चावल का सबसे बड़ा आयातक देश है।

हरियाणा की निसिंग मंडी में किसानों का बासमती किस्म का 1509 धान पहुंचे रहा है। मंगलवार को मंडी मे धान की आवक एक हजार क्विंटल तक पहुंच गई है। व्यापारियों द्वारा जिसे 2200 रुपए प्रति क्विंटल से लेकर 2310 तक खरीद किया जा रहा है।

पूर्व मंडी प्रधान धर्मपाल सिंगला लाला रतन लाल गोयल ने बताया कि श्राद्ध पक्ष के चलते अधिकतर व्यापारियों ने मंडी में धान की खरीद शुरू नहीं की है। इस कारण मंडी में गिने चुने व्यापारी ही धान की खरीद कर रहे हैं।

किसान कार्नर -जानिए किस कीमत पर हरियाणा में बिक रहा है बासमती 1509 धान

नईअनाज मंडी में किसानों का बासमती किस्म का 1509 धान पहुंचे रहा है। मंगलवार को मंडी मे धान की आवक एक हजार क्विंटल तक पहुंच गई है। व्यापारियों द्वारा जिसे 2200 रुपए प्रति क्विंटल से लेकर 2310 तक खरीद किया जा रहा है। पूर्व मंडी प्रधान धर्मपाल सिंगला लाला रतन लाल गोयल ने बताया कि श्राद्ध पक्ष के चलते अधिकतर व्यापारियों ने मंडी में धान की खरीद शुरू नहीं की है। इस कारण मंडी में गिने चुने व्यापारी ही धान की खरीद कर रहे हैं।