सुप्रीम कोर्ट का ऑर्डर है, अगर आपके पास आधार कार्ड है, तो आपको उसे 1 जुलाई से पहले PAN कार्ड से लिंक कराना ही है. इसके बिना आप टैक्स रिटर्न फाइल नहीं कर पाएंगे. छूट सिर्फ उन्हें है, जिन्होंने अब तक आधार कार्ड नहीं बनवाया है या फिर जिन्हें अप्लाई करने के बाद अब तक आधार नंबर अलॉट नहीं हुआ है.

पैन कार्ड से कैसे लिंक कराना है वह यहां क्लिक करके जान लीजिए

एक्टिवेट है या नहीं, जान लीजिए

आपका कार्ड बंद हो गया है या फिर चल रहा है इसके लिए आपको यूआईडीएआई की वेबसाइट पर जाना होगा. वहां आप अपने आधार कार्ड की जानकारी ले सकते हैं.


​वेबसाइट के होम पेज पर ही ‘Verify Aadhaar Number’का ऑप्शन मिलेगा. क्लिक करिए.


​इसके बाद एक न्यू पेज खुलेगा. उसमें आपको अपना आधार कार्ड नंबर डालना होगा और इसके बाद वेरीफाई करना होगा. वेरीफाई होते ही स्क्रीन पर ग्रीन कलर का राइट सिंबल बना हुआ आएगा

आपका आधार कार्ड बंद हो सकता हे अगर आपने तीन साल तक उसे न तो पैन कार्ड से जोड़ा और न ही बैंक से जोड़ा या किसी भी सरकारी योजना से उसे नहीं जोड़ा गया


​सरकार धीरे-धीरे सारी योजनाओं को आधार कार्ड से जोड़ रही है. यानी आपके पास आधार नहीं तो योजना मिलने से वंचित रह जाओगे. लेकिन क्या आपको पता है कि आधार कार्ड की वैलिडिटी होती है. और जब वैलिडिटी होती है तो एक्सपायर भी होगा. मान लो अगर किसी ने अपने आधार कार्ड को लगातार तीन साल तक किसी भी सरकारी योजना या बैंकिंग से जुड़े कारोबार में इस्तेमाल नहीं किया तो वह डीएक्टिवेट हो जाएगा

जाने कैसे आधार कार्ड डीएक्टिवेट हो सकता है और कैसे करे फिर से चालू 

अगर आधार डीएक्टिवेट हो चुका है, तब क्या करें?

अगर आधार कार्ड का अपडेट लेने के बाद आपको पता चलता है कि आपका कार्ड डीएक्टिवेट हो गया है तो अब आपको नजदीकी आधार पंजीकरण केंद्र पर जाना पड़ेगा. वो भी सारे डॉक्यूमेंट लेकर. वहां आपसे आधार अपडेट फॉर्म भरवा लिया जाएगा. इसके बाद बायोमेट्रिक मशीन से आपकी उंगलियों के निशान जांचे जाएंगे. वेरिफिकेशन होते ही आपका आधार फिर से एक्टिवेट हो जाएगा. लेकिन इसके लिए आपको 25 रुपये चुकाने होंगे. आधार कार्ड एक्टिवेट कराने के लिए आपके पास रजिस्टर मोबाइल नंबर होना जरूरी है. डीएक्टिवेट हुए आधार को ऑनलाइन या फिर डाक के ज़रिए एक्टिवेट नहीं कराया जा सकता है.

अगर ग्रीन राइट आ जाता है तो समझ लीजिए आपका आधार कार्ड चल रहा है. यानी एक्टिवेट है.