बिहार: स्कूल में वंदे मातरम नहीं गाने पर मुस्लिम शिक्षक के साथ मारपीट और मुकदमा

हुसैन का कहना है कि उसने वन्दे मातरम इसलिए नहीं गया क्योंकि यह उसकी धार्मिक मान्यता के खिलाफ है।


हुसैन का कहना है, “हम अल्लाह में विश्वास करते हैं और वन्दे मातरम हमारी मान्यता के खिलाफ है। इस शब्द का अर्थ है भारत माता की वंदना (हिंदी में स्तुति), जिसे हम नहीं मानते।”

बिहार के कटिहार जिले में गणतंत्र दिवस के मौके पर एक प्राथमिक स्कूल में ध्वजारोहन के दौरान वंदे मातरम नहीं गाने को लेकर एक मुस्लिम शिक्षक की पिटाई का मामला सामने आया है।


इस मामले में पीड़ित टीचर के खिलाफ ही राज्य के शिक्षामंत्री ने कार्रवाई के आदेश दे दिए।


बिहार के शिक्षा मंत्री केएन प्रसाद वर्मा ने कहा कि अगर इस तरह की कोई घटना हुई है तो कार्रवाई की जाएगी, राष्ट्रीय गीत का अपमान बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।  

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, मामला कुछ यूं है कि कटिहार जिले में स्थित प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक अफ़ज़ल हुसैन ने 26 जनवरी को वन्दे मातरम गाने से इनकार कर दिया था।


इसके बाद इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ।  

इससे स्थानीय लोगों में अफ़ज़ल के खिलाफ गुस्सा भड़क उठा। स्कूल पहुंचकर उन्होंने शिक्षक के साथ हाथापाई की और जमकर बवाल काटा।  

समाचार के मुताबिक पीड़ित शिक्षक का नाम अफजल हुसैन है। हुसैन को स्थानीय लोगों द्वारा पीटे जाने का वीडियो वायरल हो रहा है। हुसैन प्राथमिक स्कूल में शिक्षक है।

bihar-muslim-teacher-afzal-hussain-vande-mataram