इससे पहले सितंबर 2018 में बीएसएफ के एक सिपाही अच्युतानंद मिश्रा को भी पाकिस्तान के लिए जासूसी करने के इल्ज़ाम में पकड़ा था।


यूपी एटीएस ने कहा था कि जांच में पता चला है कि पाकिस्तानी खुफ़िया एजेंसी ISI खूबसूरत लड़कियों की फ़र्ज़ी फेसबुक ID बनाकर केंद्रीय बलों के लोगों को मोहब्बत के जाल में फंसाकर जासूसी करा रही है।

यह पहला ऐसा मामला नहीं जब पाकिस्तान को खूफिया जानकारी देने के मामले में किसी को गिरफ्तार किया गया हो।

इससे पहले अक्टूबर 2018 में मेरठ से एक जवान को गिरफ्तार किया गया था। आरोपी का नाम कंचन सिंह था, जो भारतीय सेना के सिग्नल रेजिमेंट का था।

इसके बाद एटीएस मप्र की मदद से केंद्रीय जांच एजेंसी ने महू स्थित 10 बिहार रेजीमेंट से नायक अविनाश कुमार को गिरफ्तार किया है।

बताया गया है कि नायक की कुछ समय पहले इंटरनेट के जरिये विदेशी महिला (संभवत: पाकिस्तानी महिला) से मुलाकात हुई थी।

नायक अविनाश कुमार- जासूस सेना से गिरफ्तार, पाकिस्तान को दे रहा था खूफिया जानकारी

आईबी (इंटेलिजेंस ब्यूरो), मिलिट्री इंटेलिजेंस और पुलिस ने ज्वाइंट ऑपरेशन करते हुए इंडियन आर्मी में तैनात एक क्लर्क को गिरफ्तार किया है। 


केंद्रीय जांच एजेंसी और एटीएस उससे पूछताछ कर रही है। जानकारी के मुताबिक सर्विलांस के दौरान पता चला था कि महू के सैन्य संस्थान से गोपनीय जानकारी लीक हो रहीं है।