इतना ही नहीं इस लड़की ने शख़्स के लिये बुक स्टॉल भी लगवाया. लड़की ने उस बुजुर्ग की शारीरिक मदद के साथ-साथ आर्थिक मदद भी उपलब्ध कराई।


यह लड़की इस शख़्स के लिये उस परी जैसी साबित हुई जो कभी-कभी हमारे सपनों मेंं आया करती है।  

जेल में उनकी मुलाक़ात एक ऐसे लड़के से हुए जो बेहद ख़ूबसूरत कव्वालियां गाता था जो उसे बहुत पसंद आई। जेल से निकलने के बाद उसने शायरी लिखना शुरू कर दिया।  

इस दौरान उसने सड़क पर भीखते मांगते इस शख़्स की शायरी सुनी और काफ़ी देर तक उससे बातचीत भी की।  इसके बाद उस शख्स की तस्दीर बदल गई। 
 उस लड़की ने इस शख्स को Spoken Word Fest तक पहुंचाया जहां उन्हें 22 मिनट तक बोलने का मौका मिला।  

इसके बाद सड़कों पर भीख मांगनी शुरू की लेकिन इस लड़के की किस्मत में शायद अभी भगवान ने और दर्द लिखे थे यही वजह रही की पुलिस उसे भीख मांगता देख पकड कर जेल में ले गई। 

कव्वालियों से मोह ने उसे हिंदी और उर्दू सीखने पर मजबूर किया। लेकिन इस दौरान उसके पास इतने पैसे नहीं थे कि वो अपना पेट भर सके इसलिए उसे फिर से भीख मांगना पड़ा।


इसी दौरान एक दिन एक लड़की अपने दादाजी की बरसी पर भिखारियों में मिठाई बांट रही थी।  

सड़कों पर भीख मांग रहा था ये बुज़ुर्ग, फिर ये लड़की फ़रिश्ता बन कर आई और बदल दी जिंदगी 

यह बुजुर्ग शख्स अपने घर से बचपन में ही भाग आया था। दरअसल वह अपने गरीब पिता पर बोझ नहीं बनना चाहता था इसलिए उन्होंने घर से दूर जाने का फैसला किया।


वह ट्रेन पकड़ कर कहीं दूर जाना चाहते थे लेकिन तभी वो अचानक भागती हुई ट्रेन से गिर गए और हादसे में एक पैर खो दिया।  

View this post on Instagram

“I’ve lived a very difficult life. I ran away from home when I was 7, because I didn’t want to be a burden on my poor father. I fell off from a running train and lost my leg. When the doctors asked me about my parents, I lied and said I was an orphan – that became my new reality. I was sent to an orphanage, but the situation was so dire, that I ran away again, this time to beg on the streets. As luck would have it, I got caught by the cops for begging, and was sent to juvenile jail. There, I met a boy who would sing beautiful qawwalis. I was so fascinated by his songs that I immersed myself into learning Urdu and Hindi. When I got out, I made my songs my livelihood. I would pen down shayaris in every free minute. But the growing hustle and bustle of the city made it impossible for me to continue. I had to resort to begging again. Then one day, the Gods smiled at me. They sent me an angel in the form of a girl – this girl who saw an old beggar, but thought he was worth talking to. She was distributing sweets for her grandfather’s Barsi, but she ended up talking to me for an hour and reading all my poetry. She visited me frequently after and then managed to take me to the Spoken Word fest where I performed for the first time for 22 minutes! They were the best 22 minutes of my life – she then took me to more events where I performed my Shayari, and much to an old man’s delight, people loved it! Not only did she introduce my words to the world, but she also raised enough money to help me to set up a book stall. I no longer have to beg and it’s all because she cared enough and because Allah wanted to prove to me that angels exist – especially in the darkest of times.”

A post shared by Humans of Bombay (@officialhumansofbombay) on