अपने इस काम को उन्होंने किस तरीके से अंजाम दिया इसके बारे में बताते हुए प्रो परिहार बताते हैं: “इस कुरान शरीफ को अरबी भाषा में से गुरमुखी भाषा में लिखने का काम संत वैद्य गुरदित्त सिंह अलोमहारी ने पूरा किया है।


इस काम को पूरा करने और पंजाबी में लिखी कुरान की प्रतियां छपवाने में जो भी खर्च आया है उसे दो हिन्दू भगत बुधमल अदटली मेवजत और वैद्य भगत गुरदित्ता मल के साथ एक सिख मेला सिंह अत्तर वज़ीराबाद ने उठाया है। “

एक तरफ जहाँ दुनिया के कुछ लोग इस्लाम को आतंकवाद से जोड़ने में लगे हुए हैं वहीँ बहुत से लोग ऐसे भी हैं जो इस्लाम का असल मतलब समझकर इसे ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को समझने के काम में जुटे हुए हैं।

एक मिसाल पेश की है सुभाष परिहार ने सिख धर्म की महान शख्सियतों से मिलकर जिन्होंने क़ुरान शरीफ के पैगाम को पूरी दुनिया में बसे पंजाबी जाने वाले लोगों तक पहुँचाने के लिए इस काम को अंजाम दिया।


परिहार जो की हिन्दू मजहब से ताल्लुक रखते हैं बठिंडा के रहने वाले हैं और सेंट्रल यूनिवर्सिटी ऑफ़ पंजाब के रिटायर्ड प्रोफेसर हैं। 

इस पवित्र ग्रन्थ को पंजाबी में अनुवादित करने के पीछे की वजह बताते हुए कुरान शरीफ के गुरमुखी संस्करण(अनुवाद) को लिखने वाले संत अलोमहारी ने कहा: “कुरान शरीफ में दुनिया की सच्चाई का निचोड़ है।


यह लोगों को सही रास्ता दिखाती है है लोगों को इस्लाम और उसकी शिक्षाओं की सख्त ज़रूरत हैवो क़ुरान में दिए गए पैगाम को पूरी दुनिया के लोगों तक पहुँचाना चाहते हैं। यही वजह है की उन्होंने इसे पंजाबी भाषा में अनुवादित कर इस काम में भागीदारी करने की कोशिश की है”।

कुरान का  पंजाबी में तजुर्मा करने वाले सिख संत ने कहा: “दुनिया को इस्लाम की जरुरत है”