जम्मू कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए हमले के बाद से भारत-पाकिस्तान के बीच तनाव है।


पाक अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा और सीमा पार से सीज फायर का उल्लंघन कर फायरिंग कर रहा है। पाक फायरिंग का ही मुंहतोड़ जवाब देते हुए राजसमंद के जाबांज बेटा परवेज काठात शहीद हो गया।

उरी बॉर्डर पर पाकिस्तान की गोलीबारी में जवान ‘परवेज काठत’ शहीद

परवेज के पिता मांगू खां काठात भी भारतीय सेना से हवलदार के पद से सेवानिवृत्त हुए हैं।


परवेज के बड़े भाई इकबाल भी भारतीय सेना में हैं और वर्तमान में कश्मीर में तैनात हैं। वहीं शहीद परवेज के चाचा लतीफ पिता बहादूर भी भारतीय सेना की 05 ग्रेनेडीयर में सेवारत हैं।

जुमेरात को कश्मीर के उरी में पाकिस्तान की गोलीबारी में राजसमंद के शेखावास का जवान परवेज काठत शहीद हो गया है। शहादत की जानकारी मिलने के बाद शेखावास में गम और गुस्से की लहर है। 

पपरवेज के चचेरे भाई असफाक ने बताया कि शुक्रवार सुबह साढ़े आठ बजे अंतिम सलामी के बाद श्रीनगर से साढ़े 11 बजे पार्थिव देह जोधपुर के लिए रवाना की जाएगी, जो दो बजे पहुंचेगी।


जानकारी के अनुसार शहीद हुए सैनिक परवेज काठात का जन्म राजसमन्द जिले की भीम तहसील के शेखावास में हुआ था   और वह 2009 को 5 ग्रेनेडीयर में भर्ती हुए थे।