पुलिस के मुताबिक उन्होंने सौरभ के पास से पुलिस ने पैनकार्ड, दो एटीएम कार्ड, बिना नंबर की पल्‍सर बाइक, वोटर आईडी कार्ड ड्राइविंग लाइसेंस और दो आधार कार्ड बरामद किए हैं।

सूत्रों के मुताबिक एटीएस काफी लंबे समय से सौरभ शुक्ला की तलाश कर रही थी। उसके ऊपर 25 हजार रुपए का इनाम भी घोषित था।

आतंकवाद निरोधक दस्ता (एटीएस) द्वारा आतंकी फंडिंग के मददगार आरोपित सौरभ शुक्ला उर्फ शिब्बू की गिरफ्तारी से प्रयागराज का आतंकी कनेक्शन फिर सामने आया है।


खुफिया तंत्र उसका नेटवर्क खंगालने में सक्रिय हो गया है। उस पर पाकिस्तान से आने वाले पैसों को अलग खातों में जमा कराकर कमीशन लेने का आरोप है।

उत्तर प्रदेश एंटी टेररिज्म स्क्वाड ने पाकिस्तान के आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के लिए काम करने के लिए 28 जुलाई, 2019 को संदिग्ध आतंकी सौरभ शुक्ला को यूपी के इलाहबाद से गिरफ्तार किया है। 

पुलिस के मुताबिक, सौरभ भारत ने जानकारियां इक्ट्ठा करके आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा को भेजता था।  

सौरभ शुक्ला संदिग्ध मध्य प्रदेश के सीधी जिले में रामपुर नैकिन थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले अगहार गांव का निवासी है। 


एटीएस अधिकारियों के मुताबिक शुक्ला आतंकी संगठन के निर्देश पर भारत में फंड जुटा रहा था और पाकिस्तान में सक्रिय लश्कर की मदद कर रहा था। 

आतंकी सौरभ शुक्ला गिरफ्तार,लश्कर-ए-तैयबा के लिए भारत से धन जुटाने का काम करता था

वह फोन और इंटरनेट के जरिए पाकिस्तान के अपने हैंडलर समेत अन्य सदस्यों के संपर्क में रहता और भारत से जानकारियां इकट्ठा कर लश्कर को भेजता था।