सूचना पांच मिनट में करनी होगी अपलोड

सहायक निर्वाचन अधिकारी विष्णु मिश्रा ने बताया कि इस एप को किसी भी स्मार्ट फोन में इंस्टाल किया जा सकेगा। इसे खोलकर उपयोगकर्ता आचार संहिता संबंधी किसी भी तरह की वीडियो या फोटो बनाकर वेबसाइट पर अपलोड कर सकेगा।


हालांकि यह करने के लिए सिर्फ पांच मिनट का समय निर्धारित है। अधिकतम दो मिनट की वीडियो इस पर अपलोड की जा सकेगी।

सी-विजिल एप की मदद से आचार संहिता नियमों के उल्‍लंघन की शिकायत चुनाव आयोग से करें

पुराने फोटो व वीडियो होंगे ऑटो रिजेक्ट

इस एप की खासियत है कि यह पुराने फोटो व वीडियो अपलोड नहीं होने देगा। यह एप जिस फोन में है उसी फोन से खींची हुई फोटो या वीडियो महज पांच मिनट भेजनी होगी। पुुराने फोटो या फिर किसी और फोन का फोटो स्वाकार नहीं किया जाएगा। ऐसा इसलिए किया गया कि ताकि ताजी सूचना नागरिक भेज सकें।

सी-विजिल एप की मदद से आचार संहिता नियमों के उल्‍लंघन की शिकायत चुनाव आयोग से करें 

यह भी पढ़ें

इस लोकसभा चुनाव में पहली बार देश भर में सी-विजिल एप के जरिए आदर्श आचार संहिता की निगरानी की जाएगी।


इससे पहले यह तरीका मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में आजमाया जा चुका है।

इस लोकसभा चुनाव में पहली बार देश भर में सी-विजिल एप का इस्तेमाल किया जा रहा है।


इसका मतलब आम नागरिकों की सहायता लेकर आचार संहिता का पालन करवाने में चुनाव आयोग की मदद करना है। यह एप किसी भी एंड्राइड फोन में इस्तेमाल किया जा सकता है।

सी-विजिल एक मोबाइल एप है, जिसे कोई भी नागरिक अपने एंड्राइड इंस्टाल करके सिविल विजलेंस यानी सी-विजिल का काम कर सकता है। 

सूचना मिलने के महज 100 मिनट के अंदर केंद्रीय चुनाव आयोग आचार संहिता का उल्लंघन करने वाले पर कार्रवाई कर देगा।