मोईन कहते हैं मेरे लिए मेरा मज़हब  सबसे पहले है और अपने मज़हब के लिए मैं जो कुछ करता हूं उससे मुझे बहुत मोहब्बत और लगाव है।

क्रिकेट मेरे लिए दूसरे नंबर पर है और मेरा मज़हब  पहले नंबर पर यानी मैं इंसान के बतौर क्या अच्छा कर सकता हूं।

मोईन कहते है की मुझे इस्लाम ने एक बेहतरीन क्रिकेटर के रूप में बदलने में मदद किया है। 


मोईन अली एक पाकिस्तानी परिवार में जन्मे हैं और उन्होंने इंग्लैंड क्रिकेट में अपनी जगह बनाई है।  

उनके लिए दाढ़ी उनके धर्म का और निजता का सवाल है लेकिन वह अपनी सफलता को धर्म से जोड़ते हैं। 

इंग्लैंड के ऑलराउंडर मोईन अली क्रिकेट के स्टार हैं और वो अपने खेल ही नहीं बल्कि निजी पहचान के कारण भी दुनिया का ध्यान खींचते हैं।

बर्मिंघम में इंग्लैंड बनाम भारत मैच दौरान के दौरान का एक इंटरव्यू वायरल हो रहा है जिमे BBC रिपोर्टर नौरीन खान मोईन का इंटरव्यू ले रही है


और मोईन उनकी हर बात का जबाब दे रहे है लेकिन उनका ध्यान रिपोर्टर की तरफ नहीं बल्कि इधर उधर लगा हुआ है।

मोईन अली महिला रिपोर्टर को आँख आँख मिलकर इंटरव्यू नहीं दे रहे क्योकि ईमान पर चलने वाला सच्चा मुसलमान है। जिसको लेकर दुनिया भर में उनकी तारीफ हो रही है।

इंग्लैंड के ऑलराउंडर मोइन अली और BBC की  रिपोर्टर का इंटरव्यू हुआ वायरल