उत्तर प्रदेश :जानिए किस लोकसभा सीट पर कितने प्रतिशत मुस्लिम मतदाता है

इसी तरह दर्जन भर से ज़्यादा सीटों पर मुस्लिम वोटर 20 फीसद में हैं।जबकि करीब 28 सीटो पर मुस्लिम मतदाता 15 प्रतिशत है ऐसे में कहा जा सकता है कि इन जगह से मुस्लिम एक तरफा जिसे भी वोट दे देंगे,उसकी जीत तय है।

अब जब लोकसभा चुनाव करीब है.चुनाव में कुछ ही महीने बाक़ी रह गए हैं,तो मुस्लिम वोटरों की सियासत एक बार फिर तेज़ हो गई है। 
सभी पार्टियां मुस्लिम वोटरों को अपनी तरफ खींचने की कोशिश कर रही हैं।

वहीं सियासत के माहिरीन का कहना है कि इस बार प्रदेश में सपा बसपा का गठबंधन हो गया है तो अब ज़्यादा उम्मीद है यही है कि मुस्लिम वॉटर इसी गठबंधन को वोट देंगे। 

उत्तर प्रदेश की सियासत में मुस्लिम वोटरों को कभी नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता,यहाँ के मुस्लिम चुनाव में बड़ी तादाद में वोट डालते हैं,और प्रदेश की सियासत में अहम किरदार अदा करते  हैं।  

कई बार तो इन्हीं के वोटों से सरकार भी बनती नज़र आई है,जब जब प्रदेश में मुस्लिम वोटरों एक तरफा वोट किसी पार्टी को दिया है तो उसकी सरकार बन गई है,इसकी कई मिसालें मौजूद हैं।

अगर हम बात करें, मुस्लिम वोटरों की तो प्रदेश में कुछ सीटें ऐसी हैं,जहां पर मुस्लिम चुनाव में उतरे उम्मीदवारों को जिताने की भूमिका में नज़र आते हैं,सहारनपुर में 39 फीसद मुस्लिम हैं,कैराना में 39 फीसद, मुजफ्फरनगर में 37 फीसद,मुरादाबाद में 45 फीसद।

बिजनौर में 38 फीसद,अमरोहा में 37 फीसद,रामपुर में 49 फीसद,मेरठ में 31 फीसद,सँभल में 46 फीसद,नगीना में 42 फीसद,बागपत में 25 फीसद,स्राबस्ती में 32 फीसद,बहराइच में 29 प्रतिशत,डुमरियागंज में 28 फीसद.खलीलाबाद में 30 प्रतिशत और बरेली में 34 प्रतिशत है।