इस लड़की ने इंग्लैंड के नॉटिंघम से इंटरनेशनल डेवलपमेंट मैनेजमेंट में मास्टर्स की डिग्री की है।इस लड़की का नाम है नफीसा लोखंडवाला।


नफीसा ने मुंबई के सोफिया कॉलेज से मास मीडिया में ग्रेजुएशन की है। मीडिया एक्सक्यूटिव के तौर पर काम करना शुरू कर दिया।

इंग्लैंड में पढ़ी ये मुस्लिम लड़की अपने गांव में कर रही ऐसा काम,आप भी करेंगे सलाम

नफीसा ने तय किया कि वो मलेरिया जैसी बीमारी के खिलाफ यहां के लोगों को जागरूक करने का काम करेंगी।


नफिसा एक ट्रेंड डांसर हैं।वो जैज फंक और स्ट्रीट जैज जैसे दूसरे डांस करती हैं। नफीसा का कहना है कि वो अपने स्किल के जरिये ही किसी इलाके की समस्याओं का तोड़ निकालने की कोशिश करेंगी।


क्योंकि भाषा की परेशानी के चलते अपनी बात पहुंचाने के लिये कला से बेहतर और कोई दूसरा साधन हो नहीं सकता।

साल 2016 में एसबीआई की ‘यूथ फॉर इंडिया’ फैलोशिप के तहत नफीसा ने उड़ीसा के नक्सल प्रभावित पिछड़े जिले गजापति के कोइनपुर इलाके में काम करना शुरू किया।


यहाँ पर काम शुरू करने से पहले नफीसा ने इस इलाके के बारे में सारी जानकारी इक्क्ठा की।ये इलाका पूरी तरह से घने जंगलों से घिरा हुआ है।


नफीसा के द्वारा इलाके के बारे में जुटाई गई जानकारी में सामने आया कि इस इलाके में लोगों को मलेरिया और ट्यूबरक्लोसिस की बीमारी ज्यादा घिरे हुए है।

जब नफीसा ने इस मामले में जानकारी एकत्रित की तो सामने आया कि यहां पर लोग यहाँ आर्थिक रूप से काफी गरीब हैं और बीमारी का इलाज ना करवा पाने के कारण ने काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है।


पैसों के अभाव के कारण लोग अस्पतालों में नहीं जाते।नफीसा इन लोगों की मदद करना चाहती थी।लेकिन परेशानी ये थी कि नफीसा को उड़िया भाषा नहीं आती थी।

नफीसा अपनी नौकरी से संतुष्ट नहीं थी इसलिए उन्होंने नौकरी छोड़ ‘सुजाया फाउंडेशन’ और ‘प्रेरणा एनटी ट्रैफिकिंग’ में टीचर और सोशल मीडिया एक्सक्यूटिव के तौर पर काम करना शुरू कर दिया।