जानिए रेहाना बशीर को जिन्हें UPSC में मिली 187 वी रैंक, कलेक्टर बनकर बाप का सपना पूरा

 मैंने इस परीक्षा को पास करने के लिए कोई भी कोचिग नहीं ली। अपनी मेहनत व भाई के सहयोग से इस परीक्षा को पास किया।


डॉ. रेहाना ने कहा कि मैं अपने मित्र, परिवार के सदस्य व शिक्षकों का धन्यवाद करती हूं, जिनके सहयोग से मैं इस परीक्षा को पास कर पाई हूं।

पुंछ जिले केदूरदराज गांव सलवा की रहने वाली डॉ. रेहाना बशीर ने संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) की फाइनल परीक्षा में 187वां रैंक हासिल कर क्षेत्र का नाम रोशन किया है।

रेहाना के छोटे भाई अमीर बशीर ने भी यूपीएससी परीक्षा 2017 में पास की थी। इस समय वह भारतीय राजस्व अधिकारी है और आयकर विभाग में नियुक्त है।

रेहाना ने बताया कि यह मेरा दूसरा प्रयास था 2017 में मैंने इंटर्नशिप करते हुए परीक्षा दी थी, लेकिन सफल नहीं हो पाई। मैंने फिर से तैयारी की और सफलता पाई।


उन्होंने कहा कि इस मुकाम को हासिल करने में मेरी मां परवीन अख्तर की अहम भूमिका रही है।

रेहाना के पिता मुहम्मद बशीर वन विभाग के अधिकारी थे, उनके निधन के बाद परिवार जम्मू शिफ्ट हो गया था। रेहाना ने अपनी स्कूली शिक्षा सेना के स्कूल रत्नूचक जम्मू से पूरी की है। इसके बाद शेर-ए-कश्मीर इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज हास्पिटल से एमबीबीएस की। रेहाना ने बताया कि मेरा छोटा भाई अमीर बशीर यूपीएससी की परीक्षा में 843वें रैंक से पास किया था।

UPSC परीक्षा 2018 के इन नतीजों में 759 उम्मीदवारों को फ़ाइनल लिस्ट में चयन हुआ है। वहीं कामयाब होने वाले उम्मीदवारों में से 28 उम्मीदवार मुस्लिम समुदाय से हैं।