2 अक्तुबर 1187 में, मिस्र और सीरिया के कुर्द-जन्मे मुस्लिम बलों के नेता सुल्तान सलाहुद्दीन पवित्र भूमि जरूसलम में क्रूसेडर से जूझ रहे यरूशलेम शहर पर कब्जा कर लिया। 

583 हिजरी के अंत में, बामुताबिक वर्ष 1187 ई में अयूबी सुल्तान सलादुद्दीन अयुबी क्रूसेडर की हार के साथ विजय प्राप्त की। 

सलाहुद्दीन ने इस शर्त पर अनुमति दी कि वह एक दिन से अधिक नहीं ठहरेगा, लेकिन जब वह वहाँ पहुँचा तो रानी सबलिया ने इससे शहर की रक्षा करने की मांग करते हुए सेना की कमान संभालने का निर्देश दिया। 

बलियन ने उनकी मांग स्वीकार करते हुए युद्ध की तैयारियां शुरू कर दिया और शहर में हथियारों का भंडार जमा करना शुरू कर दिया।

सलादुद्दीन अयूबी ने युद्ध में सफल होने के लिए यरूशलेम को घेर लिया, और 20 सितंबर से अक्टूबर तक लगातार घेराबंदी के बाद शहर पर विजय प्राप्त की। 

यरूशलेम की विजय के बाद, सुल्तान ने किसी भी प्रकार के खून खराबा नहीं किया जो क्रूसेडर्स (सलिबियों) ने पहले क्रूसेड (सलिबी) के दौरान किया था।

4 जुलाई 1187 को जंग ए हतीन में करारी हार के बाद ईसाइयों के राज्य यरूशलेम कमजोर पड़ गई और कई महत्वपूर्ण हस्तियां सलाहुद्दीन की कैद में चली गई। 

सितंबर के मध्य में सलाहुद्दीन ने अक्रे, नबलोस, जफा, सीदोन, बेरूत और अन्य शहर जीत लिए। पराजित ईसाई त्रासदी में पहुंच गई। 

जहां आक्रामक हार में कई ईसाई योद्धा भी थे जिनमें बालियन (Balian) शामिल था उसने अपने परिजनों को वापस लाने के लिए सलाहुद्दीन से मांग की कि वह जेरूसलम जाने की अनुमति दे। 

2 अक्टूबर को, बलिन ने बुर्ज दाउद की चाबियाँ सुल्तान को सौंपीं। 

इस मौक़े पर घोषणा की गई कि सभी ईसाईयों को फिदिया का भुगतान करने के लिए एक महीने का वक़्त  दिया जा रहा है, जो 50 दिनों तक बढ़ा है। 

सलाहुद्दीन एक दयालु राजा थे, उसने गुलाम बनाए गए ईसाइयों के लिए फिदिया खुद अदा करके उन्हें रिहा कर दिया।  

20 सितंबर, 1187 को सलदुद्दीन के नेतृत्व में सीरिया और मिस्र की सेनाओं की विफल घेराबंदी के बाद, यरूशलेम पहुंच गई।

सलाहुद्दीन बेगैर खून खराबे के शहर पर कब्जा करना चाहते थे, लेकिन बालियन ने बिना किसी लड़ाई के पवित्र शहर छोड़ने से इनकार कर दिया, और शहर को दुश्मन को देने के बजाय उसे नष्ट करने और खुद मर जाने की धमकी दी। 


सितंबर के अंत में, बलिन ने सलाहुद्दीन के साथ वार्ता के दौरान आत्मसमर्पण कर दिया। 

सलाहुद्दीन ने पुरुषों के लिए 20, महिलाओं के लिए 10 और बच्चों के लिए 5 अशरफियों का फिदया तलब किया और जो लोग फिदिया नहीं दे सके उनके लिए  बाद में सुल्तान ने पुरुषों के लिए धन की राशि 10, महिलाओं और बच्चों के लिए केवल एक अशरफी मुकर्रर कर दी।

जानिए कैसे 2 अक्टूबर को पैदा हुए सलाहुद्दीन अयुबी ने जेरूसलम को फतह किया था