अन्य खबरें भी पढ़े

शादाब ने कहा, मैंने दिन-रात पढ़ाई की ताकि मुझे एक नौकरी मिल सके और मेरे माता-पिता अपने बुढ़ापे की चिंता करना छोड़ दें।


मैंने सीए को एक ऐसे प्रोफेशन के तौर पर देखा जहां आप जिंदगीभर सीख सकते हैं। कभी रिसर्च करने के बाद मैंने सीए के प्रोफेशन को अपने लिए चुना।

कौन हे शादाब हुसैन और उनका परिवार

 
शादाब हुसैन ने कोटा विश्वविद्यालय से बी.कॉम की डिग्री हासिल की है।  
उनके पिता एक दर्जी हैं और कक्षा 10 तक पढ़े हैं।  उनकी मां ने बीच में अपनी पढ़ाई छोड़ दी थी।  

शादाब की चार बहनें और अपने परिवार में वह अकेला बेटा है, भले ही उनके माता- पिता कम पढ़े लिखे हैं पर उन्होंने शादाब को एक बेहतर शिक्षा दी और उसकी कामयाबी हम योगदान दिया है।  

शादाब ने उन छात्रों को सलाह दी है सीए परीक्षा के लिए तैयारी कर रहे हैं​।


उन्होंने कहा- 'मैं सभी को सलाह देता हूं कि कम से कम आधे घंटे का समय हर किसी के पास खुद के लिए हो।  ताकि वह अपने बारे में और अपने दिन के बारे में सोचें कि पूरा कैसे बिताया जाना है। 

ऐसा करने से आप आसानी से टाइम मैनेज कर सकते हैं, जिसका नतीजा आपको भविष्य में मिलेगा' . 

किसी ने सच  कहा है अगर खुद पर भरोसा, कड़ी मेहनत और कुछ कर गुजरने का जुनून सर पर सवार हो जाए  तो कोई क्या कुछ नहीं कर सकता है।  

चार्टर्ड अकाउंटेंट यानी CA की परीक्षा पास करना जितना मुश्किल है।  

इस साल कोटा के रहने वाले शादाब हुसैन ने सीए फाइनल (ओल्ड सेलेबस) में ऑल इंडिया टॉप कर पहली रैंक हासिल की है।  

शादाब ने सीए फाइनल (ओल्ड सेलेबस) में ऑल इंडिया में पहला स्थान हासिल किया है और


उन्होंने  74.63 प्रतिशत अंकों के साथ टॉप किया है। 


उन्हें 800 में से 597 अंक प्राप्त हुए हैं, वहीं दूसरे स्थान पर कोडे (गुजरात) के शाहिद हुसैन शौकत ने 800 में से 584 अंक लेकर 73 फीसदी अंक प्राप्त किए हैं।


सीए CA फाइनल परिणाम 2019- कोटा के शादाब हुसैन ने किया टॉप, वालिद हैं दर्ज़ी