बर्क की टिप्पणी से भाजपा के सांसद नाराज हो गए, जो विरोध करने के लिए अपनी सीट से उठ गए।


बर्क ने अपनी अधीनता को पूरा करने की कोशिश की, लेकिन जोरदार विरोध प्रदर्शन से प्रभावित हुआ। 

कांग्रेस के नेतृत्व में विपक्षी सांसद भी खड़े हो गए, उन्होंने मांग की कि बर्क को अपना बयान पूरा करने की अनुमति दी जाए।


यहां तक ​​कि गृह मंत्री अमित शाह भी अपने सांसदों को शांत रहने के लिए कहते नजर आए। 

शून्यकाल के दौरान इस मुद्दे को उठाते हुए, एसपी के शफीकुर्रहमान बर्क ने कहा कि देश में मुसलमानों को कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।  

सपा संसद शफीकुर्रहमान बर्क ने संसद में उठाया मुसलमानों के खिलाफ हो रही हिंसा का मुद्दा

शफीकुर्रहमान बर्क मज़ीद कहा कि झारखंड जैसे राज्यों में लिंचिंग की कई घटनाएं सामने आई हैं। “हमें यह तय करना होगा कि मुसलमान इस देश में कैसे रहेंगे,”


उन्होंने मुसलमानों के खिलाफ हिंसा और हिंसा की घटनाओं का जिक्र किया।

जहाँ एक तरफ मुसलमानो में खिलाफ देश भर में हिंसा की खबरें आरही हैं वही मुस्लिम सांसदों की चुप्पी पर सवाल उठ रहे हैं।


इस बात को मद्देनज़र रखते हुए सपा संसद शफीकुर्रहमान बर्क ने मुसलमानों के खिलाफ हो रही हिंसा का मुद्दा संसद में उठाया है।