14 जून 2018 को कश्मीर घाटी में आतंकवादियों ने सेना के जांबाज सिपाही औरंगजेब का उस समय अपहरण कर उसे शहीद कर दिया था जब वह ईद मनाने के लिए अपने घर पुंछ के सलानी गांव में आ रहे थे। 

शहीद औरंगजेब के दोनों भाई सेना में भर्ती, लेंगे भाई की शहादत का बदला 

सोमवार को राजौरी में भारतीय सेना में 100 नए सैनिक भर्ती हुए, जिनमें शब्बीर और तारिक भी शामिल थे। औरंगजेब को देश सेवा विरासत में मिली थी।


उनके पिता मोहम्मद हनीफ भी सैनिक थे और जम्मू-कश्मीर लाईट इन्फैन्ट्री से जुड़े थे।

शहीद के पिता मोहम्मद हनीफ के मुताबिक औरंगजेब से छोटे उसके दोनों बेटे मोहम्मद तारिक और मोहम्मद शब्बीर न मातृभूमि की रक्षा करने हेतु सेना में भर्ती हो गए हैं और इस समय उनकी ट्रेनिंग चल रही है।  

जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में भारतीय सेना के शहीद जवान औरंगजेब के दोनों भाई मोहम्मब शाबिर और मोहम्मद तारिक ने भारतीय सेना जॉइन कर ली है।


गौरतलब है कि बीते साल औरंगजेब का अपहरण कर आतंकियों ने उनकी हत्या कर दी थी।  

सोमवार को शहर के पलमा इलाके में सेना की काउंटर इंसर्जेंसी फोर्स (रोमियो) के तत्वावधान में 156 इन्फैन्ट्री बटालियन टेरिटोरियल आर्मी द्वारा रंगरूटों की एनरोलमेंट परेड के दौरान मौजूद मोहम्मद हनीफ ने कहा,


अपना एक बेटा देश की सेवा में खोया है और अब दोनों बेटों को उस शहीद की मौत का बदला लेने के लिए सेना में भर्ती कराया है। 

शहीद औरंगजेब का बड़ा भाई मोहम्मद कासिम पहले से ही सेना में है और करीब 12 साल से सेना में सेवाएं दे रहा है। अब दो भाई और सेना में शामिल हो गए हैं।


इसके अलावा दो छोटे भाई आसम और सोहेल अभी पढ़ रहे हैं।