आरोपियों की पहचान झांसी निवासी चरन सिंह, दीनबंधु, पुष्पेंद्र झा और एमपी के टीकमगढ़ निवासी सीताराम पाल के रूप में हुई है। ये लोग विस्फोटक ओरछा से लेकर आ रहे थे।


आरोपियों का कहना है कि विस्फोटकों का इस्तेमाल खनन के लिए करना था। हालांकि एटीएस को आशंका है कि कहीं ये विस्फोटक नक्सलियों या आतंकियों को तो नहीं सप्लाइ किए जा रहे थे। 

उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि यह सामग्री अवैध खनन में इस्तेमाल करने के लिए लाई गई,


लेकिन इस आशंका को लेकर चिंता है कि कहीं उनका इस्तेमाल आतंकवादी या नक्सलवादी गतिविधियों के लिए तो नहीं होने जा रहा था। 

उत्तर प्रदेश : एटीएस ने किया चार लोगों को गिरफ्तार, भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद

एटीएस के अपर पुलिस महानिदेशक (एडीजी) असीम अरुण ने बताया कि चरण सिंह कोई इससे पहले भी विस्फोटक पदार्थों की तस्करी के आरोप में गिरफ्तार किया जा चुका है।  

उत्तर प्रदेश एटीएस ने जिन चार लोगों को गिरफ्तार किया है उनके कब्जे से 1000 डेटोनेटर और जिलेटिन की 5000 छड़ें बरामद की गई हैं। 

बस नाम नाम का अंतर है वरना इतना विस्फोटक मिलने पर मीडिया अब तक ख़ूंखार आतंकी घोषित कर चुकी होती !

गिरफ़्तार लोगों के नाम ——
चरण सिंह, दीनबंधु, पुष्पेंद्र झा और सीताराम पाल

एटीएस के अपर पुलिस महानिदेशक असीम अरुण ने बताया कि एटीएस ने झांसी में चरण सिंह, दीनबंधु, पुष्पेंद्र झा और सीताराम पाल को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से 1000 डेटोनेटर और जिलेटिन की 5000 छड़ें बरामद की हैं।