श्रीनगर स्थित ललदेद अस्पताल में पहुंचने पर संबधित डाक्टरों ने कथित तौर पर पहले सुरैया बेगम को कुछ समय तक अंडर आब्जर्वेशन में रखा और उसके बाद उसे दाखिल करने से मना कर दिया।


इस पर महिला को वहीं पास ही एक सड़क पर खुले में ही बच्चे को जन्म देना पड़ा। बताया जाता है कि वीरवार की रात साढ़े आठ बजे के करीब महिला ने बच्चे को जन्म दिया था। जन्म के कुछ ही देर बाद बच्चे की मौत हो गई।


मौसम विभाग के मुताबिक वीरवार की रात को श्रीनगर में तापमान शून्य से नीचे -0.7 डिग्री सेल्सियस था।

फिलहाल,इस मामले की जांच के लिए एक समिति का गठन किया गया है जो पूरे प्रकरण की जांच करते हुए दोषियों की पहचान करेगी।

इंसानियत शर्मसार: कश्‍मीर ठंड में अस्पताल से निकाली महिला ने सड़क पर दिया बच्चे को जन्म

इंसानियत को शर्मसार करने वाली इस घटना के प्रकाश में आने के साथ ही जहां सियासी नेता इसकी निंदा में सक्रिय हुए हैं, वहीं राज्य प्रशासन ने दोषियों को दंडित करने के लिए मामले की जांच बैठा दी है।


बताया जाता है कि मूरी की रहने वाली एक गर्भवती महिला जिसका नाम सुरैया बेगम है, को प्रसव पीड़ा के चलते गत वीरवार को उसके परिजन उसे चारपाई पर लिटाकर कलारुस अस्पताल पहुंचे। इन लोगों को पूरा सफर बर्फ में पैदल ही करना पड़ा था। 

उत्तरी कश्मीर में एलओसी के साथ सटे मूरी, कुपवाड़ा से श्रीनगर स्थित ललदेद अस्पताल में उपचार के लिए लायी गई एक गर्भवती महिला को अस्पताल प्रबंधन द्वारा भर्ती न करने पर सड़क किनारे ही ठंड में बच्चे को जन्म देना पड़ा।


ठंड के कारण नवजात ज्यादा देर तक सांस नहीं ले पाया और उसकी मृत्यु हो गई।